!!""परीक्षाओ का,धंधा, परिणामो,,में,अंधा,,!!

⏰रामनगर💥चमत्कारिक रहा बोर्ड परीक्षा परिणाम,,🌞बोर्ड परीक्षा परिणामो से काफी छात्र/छात्रायेष आहत👆🏿बारहवीं के छात्रों का टूटा मनोबल, पुनर्गणना, पुनर्मूल्यांकन,के साथ , उत्तरपुस्तिका दिखाने के लिए,बढ़ सकते है आवेदन, मध्यप्रदेश माध्यमिक शिक्षा मंडल का MPBSE एप,वेंटिलेटर के हवाले,रेटोटलिंग के नाम पर नो डिटेल फाउंड या एक्सपायर्ड डेट बता रहा है,वही उत्तर पुस्तिका अवलोकन ऑप्शन पर रेटोटलिंग फर्स्ट का निर्देश दिखा रहा है,वही विद्यालयों के छात्र/छात्राये बहुत ज्यादा अंको की काट-छांट की बात कर रहे है, परिणाम घोषित होने के बाद 15 दिनों का समय मिलता है इन सबके लिए,एमपी बोर्ड एप के माध्यम से गूगल पे या अन्य माध्यमो से शुल्क जमा कर निजी तौर पर भी सेवा उपलब्ध कराने का दावा करता है,मगर उक्त एप के माध्यम से टेपपोररी परिणाम दिखा कर,काम चालू है,वही यह परीक्षा परिणाम अंक सूची होने का दावा आधार नही है जिसके चलते बाजार में एमपी ऑन लाइन में विद्यार्थियों , पालको के चक्करो की संख्या व शुल्क,पर शुल्क का भुगतान करना पड़ सकता है,वही एमपी बोर्ड में 12 के परीक्षा परिणामो में बड़ी गिरावट की बजह कोरोना काल बताई जा रही है,इसके लिए न तो सरकार की व्यवस्थाएं दोषी है न संसाधनों की अनुपलब्धता ऑन लाइन शिक्षा,मोबाइल का अधाधुंध उपयोग भी दोषी नही है,और न ही छात्रों की ली जाने वाली तीन चार परीक्षाओ का परिणाम व तैयारी, मॉडल पेपर,आंसर शीट, वायरल पेपर,साल भर स्थानांतरण, आधे सत्र बाद,नियुक्त अतिथि शिक्षको द्वारा आधी अधुरी पढ़ाई,नए शिक्षको की योग्यता, क्षमता,व लगातार ऑन ऑफ मिलते प्रशिक्षण भी परिणामो में व्रद्धि नही कर सके,न ही थोक के भाव सरकारी अनुकम्पा पर पलने वाले कोचिंग सेंटर भी अपनी पढ़ाई का लोहा मनवा सके, वैसे लोगो, अभिभावकों, बुद्धि जीवियों की दबी जुबान से यह भी निकल कर सामने आ रहा है कि बारहवीं पास करने के बाद छात्र/छात्राये शिक्षित बेरोजगारों की श्रेणी में आ जाते है,रोजगार कार्यालयों में पंजीकृत होते है,और अधिकतम छात्र,छात्राये, अपनी पारिवारिक स्थितियों से रोजगार या नौकरी के लिए हाँथ पांव चलाने लगते है प्रदेश में वैसे भी उच्च,शिक्षित बेरोजगारों की लाइन लगी है ऐसे में 12 के परीक्षा परिणामो में व्रद्धि मतलब हज़ारो, लाखो की संख्या में सरकारी रिकॉर्डो में बेरोजगारों की व्रद्धि होगी ,जो सरकार कतई नही चाहेगी ,क्योकि इन दिनों प्रदेश की भाजपा सरकार लाखो लोगो को लोक परलोक में रोजगार धंधे,नौकरी, चाकरी व ठेके के अवसर थोक के भाव उपलब्ध करा रही है,ऐसी स्थिति में तो यह चुटकियो में हल होने वाला प्रश्न है,मामला क्या है यह जाने सरकार,मण्डल,या शिक्षा संचालनालय के आका,मुखिया ,लेकिन इन परीक्षा परिणामो से 12 के छात्र,छात्राओं का आत्मबल कमजोर हुआ है,उनका खुद से भरोसा उठा है,वही ट्यूशन कोचिंग,स्कूल,की पढ़ाई,लिखाई के साथ अभिभावकों की गैर जिम्मेवारियों की पोल भी खुल रही है,सरकार विभाग,नई नियुक्तियां करने में व्यस्त है,वही सरकारी स्कूल में कार्यरत स्कूल अतिथि शिक्षकों को मई 2023 से सेवानिवृत्त कर दिया गया है,जनवरी 2023 से अप्रैल 2023 तक का इन्हें अब तक अत्यल्प मानदेय भी नही दिया गया है, 15 सालो से बिना एक सरकारी अवकाश, बीमा सुविधा की पात्रता के,,बिना मजदूरी पाए ही शिक्षित बेरोजगार, उम्रदराज ,बन कर मामा जी के गुणगान मे व्यस्त है वही,एमपी सरकार रोज रोजगार सृजन कार्यक्रम करके करोड़ो अरबो का बम्बू तम्बू लगा कर,कृत,-कृत्य दिखती है,,,कल बच्चो का परीक्षा परिणाम आया है,आगामी समय मे ईव्हीएम द्वारा चुनावो का भी परिणाम सामने आएगा,सत्य, न्याय ,धर्म की सत्ता में ,जल्द ही सम्पूर्ण रामराज्य,छाएगा! -7898080021✍🏿