राष्ट्रीय तम्बाकू नियंत्रण कार्यक्रम के अन्तर्गत आयोजित हुआ ट्रेनिंग ऑफ़ हेल्थ प्रोफेशनल कार्यक्रम

बहराइच। राष्ट्रीय तम्बाकू नियंत्रण कार्यक्रम के अन्तर्गत ट्रेनिंग ऑफ़ हेल्थ प्रोफेशनल कार्यशाला का आयोजन सीएमओ कार्यालय के अचल प्रशिक्षण केंद्र पर किया गया। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि सीएमओ डॉ० सतीश कुमार सिंह रहे। सीएमओ श्री सिंह ने कार्यक्रम में तम्बाकू से हो रहे रोगों, रक्तचाप, अनिद्रा, कैंसर आदि के बारे मे विस्तार से बताया। उन्होंने कहा कि तम्बाकू उत्पादों के सेवन से उच्च रक्तचाप की समस्या अधिक उत्पन्न हो रही है। मुख रोग ज्यादा हो रहे है। तम्बाकू उत्पादों को छोड़ने के उपाए एवं कोटपा अधिनियम 2003 के बारे मे जानकारी देते हुए उन्होंने बताया कि तम्बाकू उत्पाद छोड़ने हेतु टोल फ्रीनंबर 1800112356 पर बात कर सकते है।
एनसीडी के नोडल अधिकारी डॉ० अनुराग वर्मा ने बताया कि समाज में विशेषकर युवा समुदाय जानकारी के अभाव में तंबाकू उत्पाद को अपनाकर बीमारी से ग्रसित हो रहे है। लोगों को बीमारियों से बचाना उन्हें जागरूक करना स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों व कर्मियों का कर्तव्य है। तंबाकू मुक्त भविष्य के लिए युवाओं को आगे आना होगा। जिला स्वास्थ्य शिक्षा सूचना अधिकारी बृजेश सिंह ने कार्यशाला को संबोधित करते हुए कहा कि तम्बाकू नियंत्रण कार्यक्रम के तहत तम्बाकू नियंत्रण अधिनियम की धारा 4 के अन्तर्गत सभी सार्वजनिक स्थानों पर धूम्रपान को प्रतिबंधित किया गया है। धारा 6 के अन्तर्गत सभी शिक्षण संस्थानों के 100 गज के दायरे में, नाबालिगों द्वारा तम्बाकू के क्रय तथा विक्रय पर प्रतिबंध है।
कार्यक्रम का संचालन कर रहे एनसीडी क्लीनिक के प्रभारी डॉ. परितोष तिवारी ने बताया कि तम्बाकू मुक्त भविष्य के लिए युवाओं को आगे आना होगा। उन्होने कहा कि तम्बाकू का लत व्यक्ति के साथ-साथ पूरे परिवार को बर्बाद कर देता है। तम्बाकू के सेवन से कई तरह की बीमारियां फैलती है, जो स्वास्थ्य एवं जीवन के लिए घातक है। तम्बाकू जहर से भी ज्यादा घातक है। डीपीएम सरजू खान ने बताया कि भारत सरकार ने तंबाकू नियंत्रण कानून के प्रभावी क्रियान्वयन सुनिश्चित करने हेतु वर्ष 2007 में राष्ट्रीय तंबाकू नियंत्रण कार्यक्रम (एनटीसीपी) का शुभारंभ किया। इसका उद्देश्य तंबाकू नियंत्रण कानून और तंबाकू के उपयोग द्वारा होने वाले हानिकारक प्रभावों के बारे में अधिक-से-अधिक जागरूकता प्रसारित करना है। इस अवसर पर अपर मुख्य चिकित्साधिकारी डॉ. राजेश कुमार, डीसीपीएम मोहम्मद राशिद, प्रभारी चिकित्साधिकारी डॉ. कुंवर रितेश, एनसीडी सेल के एफएलसी विवेक श्रीवास्तव, मो० हारून, एनसीडी क्लीनिक के डॉ. रियाजुल हक, पुनीत शर्मा, संतोष सिंह, बृज प्रकाश सहित अन्य सम्बंधित मौजूद रहे।