शहर के पहले फ्लाइओवर का सर्वे हुआ पूर्ण

एलएनटी कंपनी की 5 सदस्यीय टीम ने किया आकाशवाणी से महोबा रोड तक का सर्वे, सौंपी रिपोर्ट

फरवरी में डीपीआर, मार्च में काम शुरू और मार्च 2025 तक फ्लाई ओवर निर्माण होगा पूरा

छतरपुर । केंद्र सरकार की सेतु बंधन योजना के तहत छतरपुर शहर में आकाशवाणी तिराहे से महोबा रोड तक बनाए जाने वाले 1800 मीटर फ्लाइओवर का सर्वे का ठेका चेन्नई की एलएनटी इंफ्रास्ट्रक्चर इंजीनियरिंग लिमिटेड को दिया गया था कंपनी को कार्यादेश भी जारी हो चुका है जिसकी 5 सदस्यीय टीम पिछले दो दिनों से जवाहर रोड स्थित एक निजी होटल में रूकी हुई थी जो देर रात मशीनों से सडक़ की माप एवं लेवल का सर्वे करती रही। सर्वे टीम के मैनेजर गोपाल कृष्णन एवं प्रभाकरण ने बताया कि अब प्राथमिक रिपोर्ट तैयार हो गयी है इस रिपोर्ट को भोपाल हेड ऑफिस में सौंपेंगे इसके बाद फरवरी माह में डीपीआर कंपलीट होते ही काम शुरू हो जायेगा। वर्ष 2025 तक इस फ्लाइओवर का निर्माण पूर्ण किया जाना है। इस फ्लाई ओवर की चौंड़ाई सिर्फ १८.३ मीटर होगी और यह फ्लाईओवर दो पिलर के ऊपर निर्मित होगा, जिसकी शुरूआत आकाशवाणी तिराहे से होगी जिससे खजुराहो एवं सागर की ओर से आने वाले वाहन फ्लाईओवर पर चढ़ सकेंगे। इसी तरह बस स्टेण्ड पर एक झांसी रोड की तरफ एक स्लोब उतारा जायेगा एवं महोबा रोड की तरफ यह सीधा गुरूद्वारे तक जायेगा । हालांकि फ्लाईओवर के दोनो तरफ सर्विस सड़क की चौड़ाई कितनी होगी यह वह नही बता सके। प्रभकरण ने बताया कि हमारी कंपनी का काम सिर्फ फ्लाईओवर का है सर्विस रोड एमपीआरडीसी बनाएगी वही बता पाएंगे।

लेकिन अभी कुछ दिन पूर्व ही केन्द्रीय मंत्री वीरेन्द्र कुमार जी के द्वारा सागर-कानपुर बायपास सिक्सलेन स्वीकृत कराया गया जिसकी खबरें सभी प्रमुख समाचार पत्रों द्वारा प्रकाशित की गई । बायपास स्वीकृत होने से शहर से गुजरने वाले दोनों नेशनल हाइवे अब शहर के अंदर नहीं रह जायेंगे । चूंकि इस फ्लाईओवर की घोषणा जिस समय हुई थी उस समय सागर-कानपुर सिक्सलेन बायपास स्वीकृत नहीं हुआ था अब जब बायपास (रिंगरोड) स्वीकृत हो चुका है और बड़े वाहन अब शहर में प्रवेश करेंगे ही नहीं तो यह फ्लाई ओवर शहर के लोगों के गले नहीं उतर रहा है और इसके खिलाफ शहर में आक्रोश भी देखा जा रहा है और सबसे ज्यादा बस स्टेण्ड, महोबा रोड के लोगों की नींद उड़ी हुई है कि उनके व्यवसाय ही ठप्प हो जायेंगे।
जबकि इस सर्वे की जानकारी न तो शहर के प्रशासन को है और न ही पीडब्लूडी, एनएचएआई, एमपीआरडीसी के अधिकारियों को हैं जब उनसे इस संबध में जानकारी चाही गयी तो उनका कहना है कि फ्लाईओवर से संबंधित कोई भी पत्राचार आज तक की दिनांक तक नहीं किया गया है यह कौन सी कंपनी सर्वे कर रही है हमारी जानकारी में नहीं है। अभी हम खजुराहों में है और सारे अधिकारी जी20 की तैयारियों में लगे हुए हैं हम छतरपुर आकर पता करते हैं।