आरसीसी सड़क बनी कई लोगों के गले की फांस। उपजिलाधिकारी के आदेश पर राजस्व टीम ने किया स्थलीय निरीक्षण

गोडा)क्षेत्र के मैनपुर गाँव के दुबौली मजरे में शिवकुमार दूबे के घर से सूबेदार दूबे के घर तक बनी आरसीसी सड़क कई गाँवों के सम्पर्क मार्ग को जोडती है लेकिन अब यही सड़क विवाद की जड़ बनने के साथ साथ कई लोगों के गले की फांस भी बन चुकी है। इस सड़क का निर्माण लगभग 05 साल पूर्व वर्तमान ग्राम प्रधान दुर्गा सिंह की पुत्रवधू अनुराधा सिंह के कार्यकाल में हुआ था। लेकिन अब सड़क के पास स्थित भूमि के सह खातेदारों विनोद, रविंद्र, ताल्लुक देई, मुनीश कुमार, राकेश कुमार का शिवकुमार पुत्र राम अंजोर का जमीन को लेकर आये दिन विवाद हो रहा है।नौबत फौजदारी की हो रही है।मिली जानकारी के अनुसार बीते 15 अक्टूबर को शिवकुमार ने उपजिलाधिकारी तरबगंज को दिए गए प्रार्थना पत्र में बताया कि जमीन गाटा संख्या 725 में उसका घर बना हुआ है साथ ही घूर,घारी और चन्नी भी है। उक्त भूमि पर विपक्षीगणों राकेश, रवीन्द्र, विनोद आए दिन जमीन को लेकर विवाद करते रहते हैं और आमादा फौजदारी होकर जान से मारने की धमकी देते रहते हैं। प्रार्थना पत्र की सत्यता जानने के लिये उपजिलाधिकारी तरबगंज शत्रुघ्न पाठक द्वारा बीते 17 अक्टूबर को संबंधित थानाध्यक्ष और राजस्व निरीक्षक को स्थलीय जांच कर अवैध हस्तक्षेप नियमानुसार रोके जाने का आदेश दिया गया था। जिस पर रविवार को राजस्व टीम राजस्व निरीक्षक शिव कुमार वर्मा के नेतृत्व में मौके पर पंहुची। टीम के पंहुचने पर दोनों पक्ष आपस में भिड़ गये और तनाव की स्थिति उत्पन्न हो गई। सूचना मिलने पर पंहुचे ग्राम प्रधान दुर्गा सिंह ने दोनों पक्षों को किसी तरह शांत कराया। विपक्षी विनोद कुमार रवीन्द्र कुमार आदि ने बताया कि उक्त आरसीसी सड़क बिना किसी चकमार्ग के बना दी गई थी जिससे उन सभी की जमीन का रकबा कम हो गया है।साथ ही इन सभी का कहना है कि शिकायत कर्ता शिवकुमार का उक्त जमीन से कोई लेना-देना नहीं है ना ही जमीन में उनका नाम दर्ज है बल्कि उनके पिता राम अंजोर जमीन में सह खातेदार हैं। ग्राम प्रधान दुर्गा सिंह ने कहा कि आरसीसी सड़क लोगों के सामंजस्य पर बनवाई गई थी लेकिन अब लोग विवाद कर रहे हैं। इस संबंध में राजस्व निरीक्षक शिव कुमार ने बताया कि स्थलीय जांच कर नजरी नक्शा बना दिया गया है और रिपोर्ट जल्द ही प्रेषित कर दी जाएगी। कुल मिलाकर बिना चकमार्ग की नियमानुसार पैमाइश कराये आरसीसी रोड बनवाकर जहां नियमों का उल्लंघन और सरकारी पैसे का दुरुपयोग किया गया वहीं आज यही सड़क विवाद का कारण और कई जिम्मेदारों के गले की फांस बन चुकी है।