सेन्ट नार्बट विद्यालय में आयोजित हुआ वार्षिक समारोह

बहराइच। सेन्ट नार्बट विद्यालय में आयोजित वर्षिक समारोह को सम्बोधित करते हुए मुख्य अतिथि जिलाधिकारी डॉ. दिनेश चन्द्र ने अपने छात्र-जीवन के प्रेरक प्रसंगों का उल्लेख करते हुए मौजूद छात्र-छात्राओं को क्वालिटी शिक्षा के लिए प्रेरित किया। शिक्षा के महत्व पर प्रकाश डालते हुए डीएम डॉ. चन्द्र ने प्राथमिक विद्यालय के अपने उस्ताद का शेर सुनाते हुए कहा कि ??लो जान बेचकर भी जो इल्मे हुनर मिले, जिससे मिले, जहॉ से मिले, जिस कदर मिले??। उन्होंने छात्र-छात्राओं का आहवान किया कि आज के आधुनिक युग में अंग्रेज़ी भाषा के महत्व से इंकार नहीं किया जा सकता परन्तु राष्ट्रभाषा हिन्दी के साथ-साथ अन्य क्षेत्रीय भाषाओं के ज्ञान के बिना किसी भी व्यक्ति के व्यक्तित्व का बहुआयामी विकास संभव नहीं है।
डीएम डॉ. चन्द्र ने कहा कि मा. प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी व प्रदेश के मा. मुख्यमंत्री श्री योगी आदित्यनाथ शिक्षा विशेषकर क्वालिटी शिक्षा के प्रति कटिबद्ध हैं। केन्द्र व राज्य सरकार द्वारा शिक्षा व मेधावी छात्र-छात्राओं को आर्थिक सहायता पहुॅचाएं जाने हेतु अनेकों योजनाएं संचालित की जा रही है, ताकि भारत के प्रत्येक बच्चे को शिक्षा हासिल करने के लिए समान अवसर मिले। डीएम ने संस्थान के शिक्षण स्टाफ का आहवान किया कि ऐसा माहौल बनाएं कि कक्षा के अन्तिम रो में बैठने वाला छात्र भी अग्रिम पंक्ति में बैठे छात्र से पीछे न रहे। उन्होंने कहा कि किसी भी विद्यालय की पहचान उसके भवन से नहीं बल्कि शैक्षिक वातावरण से होती है। डॉ. चन्द्र ने कहा कि बच्चों को क्वालिटी शिक्षा प्रदान कर विद्यालय जिले के विकास में भी सहयोग प्रदान कर रहा है। डॉ. चन्द्र ने बच्चों द्वारा प्रस्तुत किए गए मॉडलों की मुक्तकंठ से सराहना करते हुए सभी बच्चों के उज्ज्वल भविष्य की कामना की।
समारोह के दौरान विज्ञान एवं मानव विकास की अवस्थाओं की सम्पूर्ण जानकारियों पर आधारित छात्र-छात्राओं द्वारा प्रदर्शनी लगायी गयी। मुख्य अतिथि डीएम डॉ. दिनेश चन्द्र ने विषेश अतिथि वी.जी. ऑफ केथोलिक डायसिस ऑफ लखनऊ के रेत्यूनी फॉदर दिनेश नरेश लोबो व अन्य अतिथियों के साथ फीता काटकर प्रदर्शनी का उद्घाटन किया तथा अवलोकन कर बच्चों की मेधा को सराहा। इस अवसर पर फौदर पॉल कोरिया, फादर राजीव मू सिस्टर सोफी, अभिवाहकगण एवं शहर के गणमान व सभी शिक्षक-शिक्षकाएं उपस्थित रहे।