कार्य शुरू कराने के बाद मार्गों को दुर्दशा ग्रस्त बनाकर गायब हो गया ठेकेदार, ग्रामीण परेशान, जिम्मेदार मौन।

सीतापुर /गांव के अंदर ग्रामीणों को साथ साफ सुथरा रास्ता उपलब्ध कराने के लिए मिश्रित विकास क्षेत्र की ग्राम पंचायत नरसिंघौली के एक मजरा ग्राम किशनपुर में समाज कल्याण विभाग द्वारा लाखों रुपयों की लागत से स्वीकृत आरसीसी मार्गों के मानक विहीन कार्य को लेकर जहां ग्रामीणों में आक्रोश है वही कार्य कराने वाला ठेकेदार गांव के मार्गों की दयनीय स्थित बनाकर एक माह से लापता है वहीं ग्रामीण परेशानी के दौर से गुजर रहे हैं और जिम्मेदार प्रशासनिक अमला पूरी तरह से चुप्पी साधे हुए हैं। ज्ञातव्य हो कि विकास क्षेत्र मिश्रित की एक ग्राम पंचायत नरसिघौली के मजरा किशनपुर में गांव की गलियों और मार्गों को चाक-चौबंद बनाकर आरसीसी निर्माण की स्वीकृति लाखों रुपए की लागत से समाज कल्याण विभाग द्वारा की गई है जिसका कार्य क्षेत्रीय सांसद अशोक रावत के करीबी किसी बागीश अवस्थी नामक ठेकेदार को मिला हुआ है जिसने गांव में गलियों का खुदान कराकर पीला ईद की गिट्टी जगह-जगह तुड़वाकर तो डालवा दी है लेकिन आगे का कार्य महीने भर से यहां पूरी तरह ठप पड़ा है वहीं ठेकेदार का भी कोई अता पता नहीं है जिससे मार्गों पर पड़ी गिट्टी अद्धो कीचड़ के कारण ग्रामीणों का सकुशल राह निकलना दूभर हो रहा है भगवान के सहारे हो रहे इस कार्य को लेकर संबंधित जिम्मेदार पूरी तरह उदासीन बने हुए हैं जिसका खामियाजा भुगत रहे हैं बेचारे ग्रामीण जिनको सकुशल राह निकलना भी दुश्वार हो रहा है मामले में पूछने पर ब्लॉक के एडीओ समाज कल्याण अमिताभ वर्मा ने बताया कि गांव में आरसीसी कार्य दस लाख रुपए से स्वीकृत है कार्य अगर ठप पड़ा है तो दिखवाकर कार्यवाही की जाएगी वही ग्राम प्रधान वेद प्रकाश का कहना है कि किशनपुर गांव में बीस लाख रुपए की लागत से समाज कल्याण विभाग द्वारा कार्य कराया जा रहा है जिसमें हमसे कोई मतलब नहीं है फिर भी ग्रामीण अगर परेशान है तो इसकी शिकायत ब्लॉक में करेंगे।