हैंड्स फ़ॉर हैल्प हर तरह से समाजसेवा में रहती है तत्पर

हैंड्स फॉर हैल्प ने कहा सब अपने बुजुर्गो का सम्मान करतें हैं सबसे ज्यादा किसी को प्यार की और उम्र के किसी पड़ाव पर प्यार की जरूरत होती है तो वो वृद्धावस्था ही है और बूढ़ापा सबका आना तय है जो आज करेंगे वही कल पाएंगे को एक सूचना मिली की एक 64 वर्षीय माता जी जो दर्द से काफी पीड़ित है 2 वर्ष पहले उनका सीधे पैर टूट गया (लटक गया) लेकिन पैसों के अभाव मैं उनका ईलाज नही हो पाया,जब हैंड्स फ़ॉर हेल्प की टीम माता जी से उनके घर पर जाकर मिली तो उनके आंसू रूक नही रहे थे, वो काफी दर्द से पीड़ित थी और अपने पैर को लेकर ईलाज के लिए मदत की मांग कर रही थी !उनको देखकर टीम भी काफी भावुक हो गई!और अब टीम परिवार से बात करके उन माता जी का उपचार कराने का प्रयास करेगी!बाकी सब ईश्वर के हाथ मे क्योंकी एक बुजुर्ग माता जी की आंख मैं इस तरह दर्द के आंसू नही होने चाहिए!