पांडवानाथ मंदिर पर हजारों लोगों ने सांस व दमा रोग के निवारण के लिए दवा पी।

भदोही। गोपीगंज कोतवाली क्षेत्र के कौलापुर गांव में स्थित बाबा पांडवानाथ मंदिर परिसर में कार्तिक पूर्णिमा के दिन में भारी संख्या में दमा व सांस के रोगियो को निःशुल्क दवा पिलाई गई। इस मौके पर गांव के काफी संख्या में युवाओं का सहयोग रहा।

मालूम हो कि इस मंदिर में बीते सैकड़ो वर्ष से हर वर्ष कार्तिक पूर्णिमा के दिन सांस व दमा के निवारण के लिए दवा पिलाई जाती है। मान्यता है कि यहां दवा लगातार पांच वर्ष पी लेने से रोग जड़ से खत्म हो जाता है। और इसी की वजह से यहां पर देश अन्य राज्य से भी कई रोगी देखने को मिले। बैरिकेडिंग कर के दवा पीने वालों को कम कम संख्या में बुलाया जाता था। और इसमें गांव के अलावा क्षेत्रीय लोगो का भी काफी सहयोग रहा।

दवा पीने के लिए कुछ लोग वृहस्तिवार की रात से ही मंदिर परिसर के आसपास रहे। और पूर्णिमा के दिन में काफी देर तक लोग दवा पीने के लिए आते रहे। जौनपुर से आये मो सत्तार ने बताया कि दवा लेते हुए दो वर्ष हो गये और सच में इससे राहत है। वही झारखंड से आये राजदेव ने बताया कि दवा सच में रामबाण है। बताया कि यहां दवा लेने के पहले मैने बहुत जगह दवा ली लेकिन इतनी राहत न मिली जबकि यहां पिछले वर्ष दवा पी थी और इस वर्ष भी ली है। काफी राहत है। इसी तरह काफी दूर दूर के महिला, पुरूष, बच्चे व वृद्ध दवा पीने आये थे। इस बार बाबा पांडवानाथ मंदिर परिसर में यज्ञ और अखण्ड हरिकिर्तन का भी आयोजन किया गया। इस मौके पर पंडित राकेश महराज, रत्नेश महराज, विनोद मिश्र, अश्वनी चतुर्वेदी समेत काफी लोगो का सहयोग रहा।