ट्विटर ने भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष संजय जायसवाल के निजी  ट्विटर अकाउंट से ब्लू टिक हटा दिया है। ट्विटर की तरफ से ऐसा क्यों किया गया है?, इसकी जानकारी अब तक उन्हें नहीं मिल पाई है

पटना ,ट्विटर ने भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष संजय जायसवाल के निजी

ट्विटर अकाउंट से ब्लू टिक हटा दिया है। ट्विटर की तरफ से ऐसा क्यों किया गया है?, इसकी जानकारी अब तक उन्हें नहीं मिल पाई है। ट्विटर के नियमों के मुताबिक अगर कोई यूजर उसके नियमों की बार-बार अनदेखी करता है या फिर इनएक्टिव होता है तब अकाउंट से ब्लू टिक हट जाता है।

इससे पहले 14 सितंबर को जायसवाल का ट्विटर अकाउंट हैक हो गया था। इसके बाद साइबर सेल में शिकायत के बाद भी कई दिनों तक अकाउंट रिकवर नहीं हो सका था।

ब्लू टिक का क्या है मतलब

ट्विटर पर मौजूद अकाउंट पर नजर आने वाला ब्लू टिक यह बताता है कि यह अकाउंट किसी वेरिफाइड व्यक्ति का है। अगर किसी व्यक्ति को अपना अकाउंट वेरिफाई करवाना है तो उसके लिए उस व्यक्ति का ट्विटर पर सक्रिय होना होगा, ऑथेंटिक और नोटबल होना जरूरी है। ट्विटर सामान्य तौर पर सरकारी कंपनियों, NGO और अन्य महत्वपूर्ण लोगों के अकाउंट को वेरिफाई करता है।

नियमों के मुताबिक, अकाउंट में यूजर नेम बदल जाने या अकाउंट इनएक्टिवेट हो जाने पर अकाउंट से ब्लू टिक हटा दिया जाता है। यही नहीं किसी अकाउंट का मालिक नहीं रहता है तब अकाउंट से वेरिफिकेशन का ब्लू टिक बिना जानकारी या सूचना के हटा दिया जाता है। लगातार विवादित ट्वीट करने पर भी ब्लू टिक हटा देता है।