पोते की सजगता से दादा-दादी ने कोरोना से जीती जंग टेस्ट कराकर सही समय पर लिया इलाज और आज पूरी तरीके से हो चुके हैं स्वस्थ

पोते की सजगता से दादा-दादी ने कोरोना से जीती जंग
टेस्ट कराकर सही समय पर लिया इलाज और आज पूरी तरीके से हो चुके हैं स्वस्थ

रायगढ़ कोरोना संक्रमण के उपचार में समय से इलाज लेना काफी महत्वपूर्ण है। इसको लेकर शासन-प्रशासन द्वारा लगातार एडवाइजरी जारी कर कोरोना लक्षणों के प्रति सतर्क रहने और किसी भी प्रकार के लक्षण दिखने पर तत्काल टेस्ट करवा कर इलाज लेने की सलाह लगातार दी जा रही है। इन सलाहों को गंभीरता से लेते हुए एक पोते ने अपने दादा दादी को कोरोना के लक्षण दिखने पर न सिर्फ तत्काल टेस्ट करवाया बल्कि समय से इलाज के लिए अस्पताल में भर्ती करवा दिया। जिसका परिणाम ये रहा कि वे सफल उपचार के बाद बिल्कुल स्वस्थ हो चुके हैं।
धरमजयगढ़ विकासखण्ड के छाल पुरूंगा निवासी 70 वर्षीय श्री सोनू नाथ पटेल को बीते 9 अप्रैल को खांसी आयी एवं गला सूखने लगा एवं उनकी पत्नी श्रीमती कौशिल्या पटेल को सर्दी, खासी हुई एवं खानें में कुछ भी स्वाद नहीं आया तो श्री सोनू नाथ पटेल के नाती 21 वर्षीय नंदकुमार पटेल ने जागरूकता दिखाई और बिना देरी किये दादा-दादी का 10 अप्रैल को कोरोना टेस्ट करवाया तब पता चला कि दोनों पाजिटिव है। 11 अप्रैल को उन्हें रायगढ़ के मेडिकल कालेज लाया गया और डॉक्टरों द्वारा उनका इलाज शुरू कर दिया गया। श्री सोनू नाथ पटेल शुगर बीमारी से भी ग्रसित है। शुरू दिन तो उनका ऑक्सीजन लेवल भी कम रहा। जिससे उन्हें ऑक्सीजन थेरेपी भी देनी पड़ी। डॉक्टरों के बेहतर इलाज से उनका ऑक्सीजन लेवल दो दिन में रिकवर हो गया। वहीं उनकी पत्नी श्रीमती कौशिल्या पटेल के लक्षण सामान्य थे। दोनों की स्थिति में सुधार देखकर डॉक्टरों ने उन्हें पांच दिनों बाद होम आईसोलेशन की सलाह देते हुये अस्पताल से डिस्चार्ज कर दिया। आज उन्होंने होम आईसोलेशन की अवधि भी पूरी कर ली है और वे दोनों पूरी तरह से स्वस्थ है।
आज इस बीमारी को हराने के बाद श्री सोनू नाथ कहते हैं कि कोरोना के लक्षणों को लेकर सतर्क रहना है। सर्दी, खांसी, बुखार, बदन दर्द, उल्टी, दस्त हो तो तत्काल टेस्ट कराकर इलाज शुरू कर देना चाहिए। जितनी जल्दी इलाज शुरू होगा दवाइयां मिलेंगी तो उतनी जल्दी शरीर से संक्रमण नियंत्रित होना शुरु होगा। उन्होंने कहा कि हमारे पोते ने सजगता दिखायी जिसकी बदौलत हम इस मुश्किल बीमारी से आसानी से उबर गए। उन्होंने कहा कि कोरोना संकट की इस घड़ी में हमें धैर्य व हिम्मत के साथ सजग रहना होगा। अगर किसी के शरीर में कोरोना के लक्षण आ भी जाते है तो वे घबराये नहीं। बिना देरी किये टेस्ट करवा लें, इलाज करवाएं और बताए जा रहे एहतियात के पालन करें तो कोरोना को आसानी से हराया जा सकता है।