ऑक्सीजन हॉस्पिटल में हंगामा:पेशेंट के घर वालों के निशाने पर थे डॉक्टर, मौके पर जांच करने पहुंचे ADM लॉ एंड ऑर्डर

ऑक्सीजन हॉस्पिटल में हंगामा:पेशेंट के घर वालों के निशाने पर थे डॉक्टर, मौके पर जांच करने पहुंचे ADM लॉ एंड ऑर्डर

पेमेंट की रसीद दिखाता मरीज का परिजन।

सोमवार को नालंदा से पटना आया था पेशेंट, परिवार का दावा- हुआ था कोरोना

हॉस्पिटल मैनेजमेंट ने कोरोना होने से किया इनकार, कहा आया था हार्ट अटैक

पटना के कंकड़बाग में RN सिंह मोड़ के पास स्थित ऑक्सीजन हॉस्पिटल में बुधवार को जमकर हंगामा हुआ। हॉस्पिटल में एडमिट एक पेशेंट के परिवार वालों ने हंगामा करने के साथ ही वहां के डॉक्टर को निशाना बनाने की कोशिश की। परिवार का आरोप है कि हॉस्पिटल मैनेजमेंट ने उनके पेशेंट का इलाज सही से नहीं किया और बिल काफी अधिक बना दिया। परिवार का दावा है कि उनका पेशेंट कोरोना पॉजिटिव है, जबकि इस हॉस्पिटल को जिला प्रशासन की तरफ से कोविड पेशेंट का इलाज करने की अनुमति नहीं मिली है। पेशेंट को नालंदा से लेकर आए थे।

सब कुछ जानते हुए सोमवार के दिन यहां उन्हें एडमिट किया गया। उसके बाद से इलाज में लगातार लापरवाही बरती गई। आरोप है कि बुधवार सुबह में अचानक हॉस्पिटल मैनेजमेंट लगातार पेशेंट को वहां से हटाने और दूसरी जगह ले जाने के लिए दबाव बना रहा था। हालांकि, परिवार का आरोप है कि उनके लोगों को बातचीत करने के बहाने केबिन में बुलाकर मारा-पीटा गया है। पेमेंट की रशीद दिखाते हुए कहा कि 80 हजार रुपए हमलोग जमा कर चुके हैं। इसके बाद भी उनसे रुपए मांगे जा रहे हैं।

ऑक्सीजन हॉस्पिटल में जांच करने पहुंची पुलिस।

हॉस्पिटल मैनेजमेंट का अलग ही है दावा
इस हॉस्पिटल के मैनेजमेंट का अलग ही दावा है। पूरे मामले पर चंदन ने बताया कि जिस पेशेंट को लेकर हंगामा हुआ, वो पेशेंट कोरोना पॉजिटिव नहीं है। उन्हें हार्ट का प्रॉब्लम था। जनरल पेशेंट जानकर ही उन्हें एडमिट किया गया, क्योंकि हमारे हॉस्पिटल को कोविड पेशेंट के इलाज की अनुमति नहीं मिली है। इसलिए यहां कोविड पेशेंट का इलाज नहीं होता है। यहां हार्ट के स्पेशलिस्ट डॉक्टर नहीं हैं। इस कारण परिवार वालों को कहा गया था कि बेहतर इलाज के लिए अपने पेशेंट को हार्ट स्पेशलिस्ट हॉस्पिटल में लेकर जाएं। कुल 40 हजार रुपए का बिल बना था, इसमें 8 हजार रुपए वे लोग जमा किए थे। उन्हें बाकी बचे 32 हजार रुपयों का पेमेंट करना था। इस कारण परिवार वालों ने गेट के बाहर जाकर काफी हंगामा किया।

जिला प्रशासन की टीम ने दी हिदायत
इस मामले में पेशेंट के परिवार वालों ने बाद में जिला प्रशासन से शिकायत की थी। जिसके बाद ADM लॉ एंड ऑर्डर जिला प्रशासन की टीम और कंकड़बाग थाना की पुलिस के साथ हॉस्पिटल पहुंचे। पूरे मामले की जांच की। हॉस्पिटल के डॉक्यूमेंट्स को खंगाला। इसके बाद उन्हें हिदायत दी कि अगर कोविड पेशेंट का इलाज करते हैं तो सरकारी रेट पर ही करना होगा। तय रेट से अधिक वसूलने पर कानूनी कार्रवाई की जाने की बात कही गई है।