चित्रकूट कोरोना कोई बीमारी नही,आधुनिक जीवन शैली का अभिशाप है : प्रो नंद लाल मिश्रा


चित्रकूट,08 अप्रैल 2021। महात्मा गांधी चित्रकूट ग्रामोदय विश्वविद्यालय के मनोविज्ञान प्राध्यापक और अधिष्ठाता प्रो नंद लाल मिश्रा का मानना है कि कोरोना की दूसरी लहर काफी डरावनी है।पिछले वर्ष कुछ दूसरे रूपों में इसे हम सभी झेले पर इस वर्ष हम कुछ और देख रहे हैं।डॉक्टरों का कहना है यह अपना स्वरूप बदल रहा है और विभिन्न लक्षणों के साथ प्रस्फुटित हो रहा है।वैज्ञानिक भी इससे सहमति जता रहे हैं।पर क्या आपको ऐसा नही लगता कि हमने अपने पर्यावरण को और अपनी जीवन शैली को इस कदर प्रदूषित कर दिया है कि हम उसका सामना नही कर पा रहे हैं और यह कभी बुखार के रूप में तो कभी दर्द के रूप में कभी सर्दी के रूप में तो कभी उल्टी और दस्त के रूप में सामने आ रहा है।यदि हम इस पर जरा ठहर कर सोचे तो यह बात खुलकर सामने आएगी कि जिन लोगो की इम्युनिटी कमजोर है वही लोग इसका शिकार बन रहे हैं।अब प्रश्न उपस्थित होता है कि इतने सारे लोग जो लाखों की संख्या में संक्रमित हो रहे है क्या सभी की इम्युनिटी कमजोर हो गयी है?हाँ यह बात बिल्कुल सत्य है कि हमारे रहन सहन और आधुनिक खान पान की गड़बड़ व्यवस्था ने हमारे प्रकृति को चुनौती दिया है।इसी प्रदूषित वातावरण की देन है कोरोना।यह दवाईयों से ठीक होने वाला नही।हमे अपने वातावरण और पर्यावरण दोनों को ठीक करना होगा अन्यथा यह कोरोना स्थायी रूप से हमारे वातावरण में घुल मिल जाएगा तथा इसी तरह इंसान को लीलता रहेगा।यह अभी और रूप बदलेगा तथा हम अर्जित विवशता को झेलने को बाध्य होते रहेंगे।

रिपोर्ट

रहमत अली

चित्रकूट