सार्वजनिक निर्माण विभाग की नव निर्माण नाली 15 दिन में ही हुई,

सिंघनिया में निर्माण के 15 दिन बाद ही क्षतिग्रस्त हुई नाली,

�ग्रामीणों ने लगाए घटिया निर्माण के आरोप

बालघाट। �सरकार जहां एक तरफ गांव में पानी निकासी की समुचित व्यवस्था के लिए नाली निर्माण के लिए लाखों रुपए खर्च करने का दावा करती है वहीं अधिकारियों की मिलीभगत के कारण नाली निर्माण के 15 दिन बाद ही टूट कर क्षतिग्रस्त हो जाए तो जिम्मेदार अधिकारियों पर सवाल उठना लाजिमी है मामला ग्राम पंचायत सिंघनिया के गांव सिंघनिया का है , �जहां गांव की आबादी के अंदर पीडब्ल्यूडी विभाग द्वारा पानी निकासी की �समुचित व्यवस्था हेतु नाली का निर्माण करवाया गया था जो 15 दिन में ही टूटकर टूट कर क्षतिग्रस्त हो गई है ग्रामीण पूर्व जिला परिषद सदस्य बुधराम मीना, सियारामबंजारा, मेघराम मीना, समयसिंह, शिवचरण आदि ने बताया कि � ठेकेदार ने घटिया निर्माण सामग्री उपयोग में ली है जिसके कारण नाली क्षतिग्रस्त हो गई है ग्रामीणों ने बताया कि उन्होंने कई बार इस संबंध में विभागीय अधिकारियों एवं ठेकेदार को अवगत करा दिया परंतु उन्होंने ग्रामीणों की बात को नजरअंदाज करते हुए निम्न गुणवत्ता पूर्ण कार्य करवाया है इस संबंध में ग्रामीणों ने बुधवार को प्रदर्शन कर विभागीय अधिकारियों पर ठेकेदार से मिलीभगत करने के आरोप लगाए हैं

ढहरा संपर्क सड़क पर भी घटिया निर्माण निर्माण किया :-

प्रदर्शन के दौरान ग्रामीणों ने बताया कि इससे पूर्व पीडब्ल्यूडी विभाग के ठेकेदार द्वारा सिंघनिया ढहरा संपर्क सड़क का निर्माण किया गया था जिसमें घटिया निर्माण की सामग्री उपयोग में ली गई थी जिसकी शिकायत ग्रामीणों के द्वारा की गई थी तथा तात्कालिक नायब तहसीलदार ने मौके पर जाकर सड़क की जांच की थी तो कई स्थानों पर निर्माण के दो दिन बाद ही सड़क �उखड़ी हुई मिली थी उसके बाद भी जांच के नाम पर केवल खानापूर्ति करके विभागीय अधिकारियों ने अपनी जिम्मेदारी से पल्ला झाड़ लिया था , �ग्रामीणों ने उक्त नाली निर्माण की निष्पक्ष जांच कराकर पुनः नाली निर्माण करवाने की मांग की है ग्रामीणों ने चेतावनी दी की घटिया निर्माण की निष्पक्ष जांच नहीं की गई तो वे इस संबंध में क्षेत्रीय विधायक एवं जिला कलेक्टर को अवगत कराएंगे

दुबारा बनवायेंगे :-

जानकारी पर पीडब्ल्यूडी विभाग के सहायक अभियंता राजेश मीना ने बताया कि ठेकेदार द्वारा पुनः नाली का निर्माण करवाया जाएगा